हाथरस जाते हुए गिरफ्तार किए गए पत्रकार के खिलाफ आतंक विरोधी कानून के तहत FIR दर्ज

उत्तर प्रदेश पुलिस (Uttar Pradesh Police) ने केरल के एक पत्रकार (Kerala Journalist) समेत चार लोगों के खिलाफ आतंक विरोधी कानून के तहत केस दर्ज किया है.

Kerala journalist

मथुरा: उत्तर प्रदेश पुलिस (Uttar Pradesh Police) ने केरल के एक पत्रकार (Kerala Journalist) समेत चार लोगों के खिलाफ आतंक विरोधी कानून के तहत केस दर्ज किया है. चारों को हाथरस जाते समय मथुरा में गिरफ्तार कर लिया गया था. वह लोग पीड़ित परिवार से मिलने जा पत्रकार Carrd.co नामक वेबसाइट का संचालक है. वेबसाइट की फंडिंग को लेकर सवाल खड़े हो रहे हैं. मिली जानकारी के अनुसार, वेबसाइट की फंडिंग पारदर्शी नहीं है. दंगे भड़काने में भी इसका इस्तेमाल किया जा रहा था.

यूपी पुलिस द्वारा चारों के खिलाफ दर्ज की गई FIR के अनुसार, चारों को सोमवार रात उस समय गिरफ्तार किया गया था, जब वो पीड़ित परिवार से मिलने के लिए हाथरस जा रहे थे. पत्रकार केरल की मशहूर वेबसाइट Carrd.co से जुड़ा है. कथित तौर पर इस वेबसाइट का लिंक पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (PFI) से बताया जा रहा है. इस संगठन को उत्तर प्रदेश की योगी सरकार बैन करना चाहती है.

FIR के अनुसार, गिरफ्तार किए गए लोगों के नाम अतीक-उर-रहमान, सिद्दीकी कप्पन, मसूद अहमद और आलम हैं. इनके द्वारा चलाई जा रही वेबसाइट का वित्तीय लेखाजोखा पारदर्शी नहीं है. दंगे भड़काने की दिशा में ऐसा किया जा रहा था. पुलिस ने बताया कि उन्हें सूचना मिली थी कि कुछ संदिग्ध लोग दिल्ली से हाथरस जा रहे हैं. मथुरा के टोल गेट के पास चारों को रोक लिया गया.

पुलिस ने उनके मोबाइल फोन, लैपटॉप और उनके पास से बरामद कुछ साहित्य जो राज्य की शांति और कानून व्यवस्था में बाधा डाल सकता था, को जब्त किया है. पुलिस का कहना है कि आरोपियों ने पूछताछ में PFI और इसके सहयोगी संगठन कैंपस फ्रंट ऑफ इंडिया से लिंक होने की बात कबूल की है. FIR के मुताबिक, आरोपियों के पास से कुछ पैम्फलेट भी मिले हैं, जिनपर लिखा है- ‘मैं भारत की बेटी नहीं हूं.’

ये भी पढ़ें-

शादी से इंकार करने पर प्रेमिका ने प्रेमी के घर पर दिया धरना, आखिरकार हुई प्यार की जीत
नैनीताल हाइवे पर स्कूटी सवार युवती से छेड़छाड़, रपटने ने से बची, फरार हुए आरोप‍ित
सुशांत की बहन पहुंचीं बॉम्बे HC, रिया की ओर से दर्ज कराई FIR रद्द करने की मांग
अराजक तत्वों ने हाथरस के पीड़ित परिवार को झूठ बोलने के लिए दिया 50 लाख रुपये का लालच : पुलिस
हाथरस केस : देर रात की गई पीड़िता की अंत्येष्टि को जायज़ ठहराया UP सरकार ने, SC को बताई यह वजह
हाथरस कांड: ‘रेप नहीं लेकिन प्राइवेट पार्ट को पहुंचा नुकसान, हार्ट अटैक से गई जान’, जानें फॉरेंसिक रिपोर्ट में क्या हुए खुलासे

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: